सावधान:कहीं आप भी तो नही खा रहे नक़ली दवाई,चार गिरफ़्तार ज़खीरा बरामद

पुलिस और स्वास्थ्य विभाग ने नकली दवाइयों का जखीरा पकड़ा है। ये दवाइयां उत्तराखंड की फैक्ट्री में बनाकर गाजियाबाद में सप्लाई के लिए लाई गई थीं, तभी पुलिस ने इन्हें पकड़ लिया। इस मामले में कुल चार आरोपियों श्रीपाल, मुकेश, शावेज़ और पुनीत मित्तल की गिरफ्तारी हुई है। दवा सप्लायर शंकर फरार हैं।

DCP (सिटी) निपुण अग्रवाल ने बताया, लोकल इनपुट मिला कि कुछ लोग बाहर से नकली दवाइयां मंगवाकर गाजियाबाद में बेच रहे हैं। इस सूचना पर त्वरित कार्रवाई करते हुए शनिवार देर रात पुलिस ने रेलवे स्टेशन स्थित माल गोदाम यात्री शेड से चार लोगो को नकली दवाइयों सहित गिरफ्तार किया। इनकी पहचान श्रीपाल निवासी बीबीनगर बुलंदशहर, मुकेश निवासी सदरपुर नोएडा, साबेज उर्फ शानू निवासी कोतवाली गाजियाबाद और पुनीत मित्तल निवासी पटेलनगर गाजियाबाद के रूप में हुई। आरोपियों से 20 डिब्बे नकली दवाइयां (आगमेंटिन 625 डुओ) और 10 डिब्बे अल्ट्रासेट सहित 26 फर्जी मुहर, 4 मोबाइल बरामद हुए हैं।

जिला औषद्यि निरीक्षक आशुतोष मिश्रा के अनुसार, ये दवाइयां दर्द निवारक और बैक्टीरिया जनित संक्रमण रोकने से संबंधित हैं। प्रथम दृष्टया दवाइयों की पैकिंग देखने से ही वे नकली प्रतीत हो रही हैं। इनका नमूना जांच के लिए भेजा गया है। जांच रिपोर्ट मिलने के बाद सच्चाई पता चल पाएगी।


पुलिस पूछताछ में आरोपियों ने बताया है कि उत्तराखंड के कोटद्वार का रहने वाला शंकर इन दवाओं की सप्लाई करता है। कोटद्वार में ये दवाइयां बनकर अलग-अलग राज्यों में सप्लाई होती हैं। आरोपियों से जो मुहर बरामद हुई हैं, वो इन दवाइयों के रैपर पर मैन्युफैक्चरिंग और एक्सपायरी डेट लिखने के काम आती थीं। पुलिस अब शंकर की तलाश में जुटी हुई है, जिससे कोटद्वार की दवाई फैक्ट्री का पता चल सके।

Author: TheBharat Times

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *