‘द स्पोर्ट्स हब’ में शटलर पुलेला गोपीचंद की दो दिवसीय ‘पाठशाला’ 23 व 24 जून को

कानपुर। अंतर्राष्ट्रीय ख्यातिप्राप्त बैडमिंटन खिलाड़ी व प्रशिक्षक ‘पद्मश्री’ व ‘पद्म भूषण’ एवार्ड से सम्मानित पुलेला गोपीचंद्र की पाठशाला 23 व 24 जून को ‘द स्पोर्ट्स हब’ (टीएसएच) में लगेगी। यह पहला अवसर है जब पुलेला गोपीचंद महानगर के बैडमिंटन खिलाड़ियों को बैडमिंटन खेल की बारीकियों से अवगत करायेंगे। पी. गोपीचंद्र शुक्रवार 23 जून को टीएसएच में बैडमिंटन गुरुकुल एकेडमी के खिलाड़ियों को दो अलग-अलग सत्रों में टिप्स देंगे जबकि शनिवार 24 जून को ईकोनॉमिकली वीक सेक्शन (ईडब्ल्यूएस) के खिलाड़ियों को बैडमिंटन में पारंगत होने के लिये गुरुमंत्र देंगे। यह जानकारी आज प्रेस कांफ्रेंस में टीएसएच के डायरेक्टर ऑपरेशंस पी.के. श्रीवास्तव, डीजीएम स्पोटर््स ओंकार कुलकर्णी और टीएसएच गुरुकुल एकेडमी के इंडोनेशियन प्रशिक्षक रिज़ा ने दी।


श्री श्रीवास्तव ने बताया कि पुलेला गोपीचंद के साथ हैदराबाद से पी. गोपीचंद गुरुकुल एकेडमी के कोच आर. विष्णु, जोकि भारतीय बैडमिंटन टीम के मुख्य प्रशिक्षक भी हैं, के अलावा एकेडमी की प्रबंध निदेशक सुप्रिया देवगन भी आ रही हैं। प्रदेश के अपर मुख्य सचिव (खेल) नवनीत सहगल, जोकि उत्तर प्रदेश बैडमिंटन संघ के अध्यक्ष भी हैं, 23 जून को सुबह 11.30 बजे पुलेला गोपीचंद की पाठशाला का बतौर मुख्य अतिथि उद्घाटन करेंगे। पुलेला गोपीचंद सुबह और शाम के दो सत्रों में टीएसएच बैडमिंटन गुरुकुल के प्रशिक्षु खिलाड़ियों को प्रशिक्षण देंगे।


उन्होंने बताया कि 23 जून को ही शाम सात बजे पुलेला गोपीचंद को टीएसएच उनकी उल्लेखनीय उपलब्धियों के लिये सम्मानित करेगा। इस मौके पर विधान सभा अध्यक्ष श्री सतीश महाना मुख्य अतिथि और कानपुर मंडल के आयुक्त श्री लोकेश एम इस अवसर पर विशिष्ट अतिथि होंगे। जिलाधिकारी श्री विशाख जी पैटर्न ऑफ इवेंट और नगर आयुक्त श्री शिवशरणप्पा जीएन स्पेशल गेस्ट रहेंगे।
उन्होंने बताया कि 24 जून को ईकोनॉमिकली वीक सेक्शन (ईडब्ल्यूएस) के खिलाड़ियों के प्रशिक्षण के दो सत्र होंगे। ईडब्ल्यूएस के खिलाड़ियों को पी. गोपीचंद व भारतीय बैडमिंटन टीम के चीफ कोच आर. विष्णु बैडमिंटन सीखने की तकनीकी और बारिकियां बतायेंगे। इसी दिन दोपहर 12 बजे जिलाधिकारी श्री विशाख जी के मुख्य आतिथ्यि में ‘इम्पॉटेंस ऑफ स्पोर्ट्स पद जनरल एण्ड बैडमिंटन इन पार्टिकुलर’ विषय पर एक ‘टॉक शो’ का आयोजन किया गया है।

शटलर पुलेला गोपीचंद


सन् 2001 में पुलेला गोपीचंद्र ने ऑल इंग्लैंड ओपन बैडमिंटन चौंपियनशिप में जीत हासिल की। वह प्रकाश पादुकोण के बाद खिताब को हासिल करने वाले भारत के दूसरे बैडमिंटन खिलाड़ी हैं। उन्हें वर्ष 2001 के लिए राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार से सम्मानित किया गया है। वर्तमान में पुलेला गोपीचंद गुरुकुल बैडमिन्टन अकादमी चला रहे हैं। अब वे एक जाने माने कोच हैं, जिन्हें द्रोणाचार्य पुरस्कार से भी सम्मानित किया जा चुका है। सायना नेहवाल को एक बैडमिन्टन खिलाडी के रूप में उभारने में मुख्य हाथ उनका ही है। पुलेला गोपीचंद भारत के एक शीर्ष बैडमिंटन खिलाड़ी व कोच हैं। 2014 में उन्हें पद्म भूषण से सम्मानित किया गया।


उनकी उत्कृष्ट उपलब्धियों को सम्मानित करने के लिए भारत सरकार ने उन्हें वर्ष 1999 में अर्जुन पुरस्कार से सम्मानित किया। इसके बाद 2001 में, उन्हें खेल के क्षेत्र में सर्वाेच्च भारतीय सम्मान राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार भी मिला। वर्ष 2005 में उन्हें ‘पद्मश्री’ पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। उन्होंने एक कोच के रूप में भारतीय बैडमिन्टन में अपने योगदान के लिए 29 अगस्त 2009 को द्रोणाचार्य पुरस्कार प्राप्त किया। शटलर पुलेला गोपीचंद को आईआईटी कानपुर ने 2019 में डॉक्टरेट की उपाधि प्रदान की थी।

Author: TheBharat Times

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *